Coronavirus in Bihar : बिहार में आज से कार्यालय आयेंगे केवल 33 फीसदी कर्मी, जानिये किन विभागों को मिलेगी छूट

cm

पटना . स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि सभी तरह के सरकारी और निजी कार्यालयों में 33% कर्मी ही रोजाना आयेंगे. लेकिन, औद्योगिक इकाइयां, पुिलस, अग्निशमन, डाकघर, बैंक, आपदा प्रबंधन समेत अनिवार्य सेवा से जुड़े सभी कार्यालयों को इससे छूट रहेगी.सरकारी कार्यालयों में उपसचिव और इससे ऊपर के अधिकारियों को रोजाना कार्यालय आना अनिवार्य होगा. उन्होंने कहा कि राज्य के सभी पार्क, उद्यान या ऐसे अन्य स्थानों पर मास्क का उपयोग के साथ ही कोरोना से बचाव के उपायों का पालन करना अनिवार्य होगा.सभी तरह के सार्वजनिक आयोजनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा. शादी समारोह व श्राद्ध कार्यक्रम में अधिकतम 200 और अंतिम संस्कार में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी. सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट 50% सीटों का ही उपयोग करेंगे.
11 से 14 अप्रैल तक चलेगा विशेष टीकाकरण अभियान
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में 11 अप्रैल को ज्योतिबा फूले और 14 अप्रैल को बाबा साहेब डॉ भीमराव आंबेडकर की जयंती है. इसलिए 11 से 14 अप्रैल तक विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जायेगा. इस दौरान रोजाना चार लाख लोगों का टीकाकरण करने का लक्ष्य रखा गया है.सीएम ने कहा कि बाहर से आने वाले सभी लोगों को रोजगार का यहां अवसर दिया जायेगा. पिछले लॉकडाउन से सबक लेकर इसकी व्यवस्था कर ली गयी है. संबंधित विभागों को इसकी तैयारी करने को कहा भी गया है.
राज्य में हो रही 68% आरटीपीसीआर जांच
प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि 70% टेस्ट आरटीपीसीआर से करने का लक्ष्य तय किया गया है. 15 मार्च से आठ अप्रैल तक हुए टेस्ट के हिसाब से अभी 68% टेस्ट आरटीपीसीआर और 32% टेस्ट रैपिड एंटीजन किट से हो रहे हैं. आरटीपीसीआर टेस्ट की संख्या रोजाना 40 हजार से ज्यादा है. इसे बढ़ाने के लिए 20 नयी मशीनें खरीदी गयी हैं.
वैक्सीन की कोई कमी नहीं, नौ लाख डोज और मिले : प्रत्यय अमृत
प्रत्यय अमृत ने कहा कि राज्य में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है. शुक्रवार की दोपहर में नौ लाख डोज फ्लाइट से पहुंच चुके हैं. इन्हें शनिवार की शाम तक सभी जिलों में पहुंचा दिया जायेगा. केंद्र को फिर से पत्र लिखकर दो लाख अतिरिक्त डोज की मांग की गयी है, ताकि 11 से 14 अप्रैल तक चलने वाला विशेष वैक्सीनेशन अभियान में वैक्सीन की कोई कमी नहीं हो. उन्होंने माना की कुछ स्थानों पर टेस्ट रिपोर्ट मिलने में देरी होती है, लेकिन इस समस्या को जल्द ही दूर कर लिया जायेगा.सभी तरह के सार्वजनिक आयोजनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा. शादी समारोह व श्राद्ध कार्यक्रम में अधिकतम 200 और अंतिम संस्कार में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी. सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट 50% सीटों का ही उपयोग करेंगे.

 

 

Leave a Reply